हर दिन कुछ नया सिखने के लिए अभी Subscribe करें!

Share Market क्या हैं? (What is Share Market in Hindi)

Share Market क्या हैं? (What is Share Market in Hindi): आज के इस लेख में हम बात करने वालें Share Market के बारें में और इसी लेख के माध्यम से हम Share Market के बारें में जानने की कोशिश करेंगे. इस दुनिया में हर व्यक्ति पैसा कमाना चाहता हैं और अपने जीवन को बेहतर बनाना चाहता हैं, जिसके लिए सबसे जरुरी पैसा होना हैं.

क्योकि अगर हमारें पास पैसा पड़ा हैं तो ऐसे में अपने सपने को आसानी से पूरा कर सकते हैं लेकिन बिना पैसो के हमारें सपने सिर्फ सपने बन के रह जाते हैं और खास बात की आजकल लोग पैसो को बहुत ज्यादा अहमियत देते हैं तो ऐसे में अगर आपके पास पैसा हैं तो आपके पास अमिताभ बच्चन सर जी के डायलॉग के जैसे दौलत, शोहरत, घर, इज्जत, दोस्त, रिश्तेदार ये सब कुछ होंगे.

What is share market in hindi

दुनिया में पैसा कमाने के बहुत सारें तरीके हैं, कुछ लोग job करके पैसे कमाते हैं तो कुछ लोग business करके पैसे कमाते हैं लेकिन एक बात खास है की पैसो को invest करने पर ही पैसा ज्यादा होता हैं तो अब बात यह है की ऐसी कौनसी जगह पैसो को invest किया जाए की पैसो की savings भी हो जाए और मुनाफा भी हो जाए.

कुछ लोग अपने पैसो को दांव पर लगाते हैं और इन पैसो को मुनाफें में परिवर्तित करते है तो कभी-कभार उन्हें भारी नुकसान भी हो जाता हैं लेकिन क्या आप भी जानना चाहते हैं की ऐसी कौनसी जगह जहाँ लोग अपने पैसो को दांव पर लगाते हैं और मुनाफा कमाते हैं.

तो यह जगह Share Market हैं यानी की शेयर बाजार , Share Bazar in Hindi के बारें में तो आपने सूना होगा लेकिन इसके बारें में बहुत ही कम लोगो को जानकारी होती हैं.

कुछ लोग Stock Market में Invest करना तो चाहते हैं लेकिन Share Market के बारें में पूर्ण जानकारी न होने की वजह से वह अपने पैसे खो देते हैं तो इस खास बात को ध्यान में रखते हुए आज मैं इस आर्टिकल के जरिए Share Market kya hai? और Basic Knowledge of Share Market in Hindi और Stock Market Investment से सम्बंधित Basic जानकारी आपके साथ शेयर कर रहा हूँ.

What is Share Market in Hindi – शेयर बाजार क्या हैं?

Stock Market और Share Market एक ऐसा Market होता हैं जहाँ पर हर प्रकार की Companies के शेयर बेचे और खरीदें जाते हैं जैसे Shares, Debentures, Mutual Funds, Derivatives और Securities को ख़रीदा और बेचा जाता हैं. जहाँ कुछ लोग बहुत सारा पैसा कमा लेते हैं तो कुछ लोग अपने सारें पैसो को गवा देते हैं.

किसी Companies के शेयर को खरीदनें का मतलब हैं की उस कम्पनीज़ का हिस्सेदार बन जाना. Shares को मुख्य रूप से Stock Exchange के माध्यम से ख़रीदा और बेचा जाता हैं और भारत में मुख्य दो Stock Exchange जिनके नाम BSE (Bombay Stock Exchange) और NSE (National Stock Exchange) हैं.

मतलब की आप जितने पैसे उस कम्पनीज़ पर लगाते हैं उन पैसो के मुताबिक आप उस कम्पनीज़ के कुछ प्रतिशत के मालिक बन जाते हैं. ऐसे में अगर उस Company को भविष्य में मुनाफा होता हैं तो आपके द्वारा लगाये गए पैसो का दुगुना पैसा आपको वापिस मिलेगा लेकिन अगर Company को नुकसान होता हैं तो ऐसे में आपको एक भी रुपया वापिस नहीं मिलेगा आपको भी नुकसान होगा.

What is Shares in Hindi – शेयर क्या होता हैं?

Share का मतलब होता हैं “हिस्सा” और Share Market की भाषा में “Share” का मतलब “कंपनियों में हिस्सा” होता हैं.

जब भी आप किसी कम्पनी के शेयर को खरीदते हैं तो आप भी उस Company के हिस्सेदार होते हैं उदहारण के लिए किसी company ने कुल 2 लाख Shares issue किये जिसमें से 20 हजार शेयर्स आपने खरीद लिए तो ऐसे में आप उस company 10% हिस्सेदार बन जाते हैं जिसकें बाद आप जब भी चाहे तब आप उन शेयर्स को Share Market में बेच सकते हैं.

How Does The Share Market Work? – शेयर मार्केट काम कैसे करता हैं?

Share Market काम कैसे करता हैं यह जानने के लिए हमें यह समझना होगा की Share Market में Company अपने Share कैसे Issue करती हैं और Share के Price कैसे बदलते हैं. तो चलिए जानते है की Companies अपने Share कैसे Issue करती हैं.

How Does The Share Market Work

Companies अपने Shares कैसे जारी (Issues) करती हैं?

सबसे पहले कम्पनीज़ अपने Share को Stock Exchange में Listing करवाती हैं जिसके बाद Company IPO (Initial Public Offering) लाती हैं और अपने Shares स्वयं के द्वारा निर्धारित किये गए मूल्य पर public को Issue करती हैं.

एक बार जैसे ही IPO पूरा हो जाता हैं उसके बाद Shares, Market में आ जाते हैं जिसके बाद Stock Exchange और Brokers के जरिए Investors द्वारा आपस में खरीदें और बेचे जाते हैं.

Companies के Shares की Prices कैसे बदलती हैं?

सबसे पहले Company खुद IPO लाते वक़्त Shares के Prices Decide करती हैं लेकिन जैसे ही IPO पूरा हो जाता हैं उसके बाद Shares के Prices निर्धारित करने में Company का किसी भी प्रकार Role नही होता हैं उसके बाद Shares की Prices स्वत्रंत रूप से Shares की Demand और Supply के आधार पर Stock Exchange निर्धारित करता हैं.

मान लो की अगर खरीदें जाने वाले Shares की तुलना में बेचे जाने वाले शेयर्स की संख्या कम हैं तो ऐसे में Shares के Prices बढ़ेंगे ठीक वैसे ही अगर बेचे जाने वाले Shares की तुलना में खरीदें जाने वाले Shares की संख्या कम है तो ऐसे में Shares की Prices भी कम होगी.

जैसे ही कोई भी Company शेयर मार्केट में Registered होती है तो ऐसे में उस Company को समय समय पर सभी प्रकार के महत्वपूर्ण जानकारी Investors के साथ शेयर करनी होगी.

इसी Information के आधार पर Investors कम्पनीज़ का Evaluation करते हैं और इसी Evaluation के आधार पर Demand और Supply घटने और बढ़ने से Shares के Prices भी Change होते रहते हैं.

कम्पनीज़ के Shares को जारी करने और उनके Prices Changes कैसे होते है यह तो आपको पता लग गया अब अगर आप किसी कम्पनीज़ के Shares खरीद रहे हैं या बेच रहे है तो दोनों समय में आपको Sensex और Nifty के बारें में पता होना चाहिए तो चलिए जानते हैं की Sensex और Nifty क्या है?

Read More: – All About Personal Loan In Hindi

Sensex और Nifty क्या होता हैं?

Sensex, Bombay Stock Exchange का सूचकांक (Index) है और इसका निर्धारण Bombay Stock Exchange में Listed top 30 कंपनियों के Market Capitalization के आधार पर किया जाता हैं.

Sensex, Bombay Stock Exchange के टॉप 30 कंपनियों के प्रदर्शन को प्रदर्शित करते है.

What is Sensex or Nifty

मतलब की अगर Sensex बढ़ता हैं तो BSE में Registered अधिकांश कंपनियों का प्रदर्शन अच्छा रहा है ठीक वैसे ही अगर Sensex गिरता हैं तो ऐसे में BSE में Registered टॉप अधिकतर कम्पनीज़ का प्रदर्शन काफी ख़राब रहा हैं.

यह तो कुछ जानकारी हमने साझा की है Sensex के बारें में अब हम बात करेंगे Nifty की तो चलिए जानते हैं की Nifty क्या होता हैं?

सेंसेक्स की तरह Nifty, National Stock Exchange का सूचकांक (index) होता हैं और Nifty का निर्धारण NSE में Listed टॉप 50 कंपनियों के Market Capitalization के आधार पर किया जाता हैं.

Nifty, National Stock Exchange के टॉप 50 कंपनियों के प्रदर्शन को प्रदर्शित करते है.

मतलब की अगर Nifty बढ़ता हैं तो NSE में Registered अधिकांश कंपनियों का प्रदर्शन अच्छा रहा है ठीक वैसे ही अगर Nifty गिरता हैं तो ऐसे में NSE में Registered टॉप अधिकतर कम्पनीज़ का प्रदर्शन काफी ख़राब रहा हैं.

Share Market से शेयर्स कैसे खरीदते हैं? How to Invest Money in Share Market in Hindi

अब आपको Share Market के बारें में Basic जानकारी तो आपको पता लग गई हैं अब अगर आप Share Market में Invest करना चाहते हैं तो आपको यह पता करना जरुरी हैं की Share Market से Shares को कैसे खरीदते हैं और पैसो को इन्वेस्ट करते हैं? तो चलिए जानते हैं की Share Market से Shares कैसे खरीद सकते हैं?

Share Market से Shares खरीदनें के लिए आपके पास एक Demat Account होना बहुत जरुरी है और Demat Account बनाने के दो तरीकें हैं एक तो आप किसी Broker यानी दलाल के पास जाकर अपना Demat Account खुलवा सकते हैं या फिर जिस Bank में आपका Bank Account पहले से ही खुला हुआ है तो उस bank में Demat Account बनवा सकते है.

अगर आप Broker यानी दलाल के पास अपना Demat Account खुलवाते हैं तो आपको फ़ायदा ज्यादा होगा क्योकि इससे आपको अच्छा Support मिलेगा और साथ ही आपके निवेश के हिसाब से वो आपकी एक अच्छी Company भी suggest करेंगे जिस Company पर आप अपना पैसा Invest कर सकते हैं लेकिन इसके लिए Broker आपके पास से पैसा भी लेंगे.

अगर आप किसी Bank में Demat Account Open करवाते हैं तो उसके लिए उस Bank में आपका पहले से Saving Account होना जरुरी है और साथ ही Demat Account open करने के लिए Proof के तौर पर Pan Card की Copy और Address Proof की Copy होना जरुरी हैं.

अब आप सोच रहे होंगे की Demat Account का होना क्यों जरुरी है अगर आप Share Market में पैसे invest करना चाहते हैं तो आपके पास Demat Account होना जरुरी है. जिस तरह से Savings Account में पैसे पड़े रहते हैं ठीक उसी प्रकार Demat Account में आपके Shares के पैसे पड़े रहते हैं.

जैसे ही आपके द्वारा खरीदें गए Shares वाली Company को मुनाफा होता है तो ऐसे में उस Company से जो भी Amount मिलेगा वो सारा आपके Demat Account में ही आएगा. Demat Account में पड़ी धन राशी को आप जब चाहे तब अपने Saving Account में transfer कर सकते हैं क्योकि Saving Account और Demat Account आपस में Link रहते हैं.

Support क्या होता हैं? (Support Level in Hindi)

Support या Support Level उस समय में उस Price Level को Refer करता हैं जिसकें निचे Assets की Price के गिरने का Chance बहुत कम होता हैं. हमेशा Buyers के द्वारा हर एक assets के लिए एक Support Level Create किया जाता हैं जो की Market में Enter कर रहे होते हैं जब भी assets एक Lower Price पर चला जाता हैं.

Support Level को कैसे बनाया जाता है?

अगर Technical Analysis की बात करें तब, सबसे Simple Support Level का Chart बनाने के लिए उस Time Period के दौरान asset के सभी Lowest lows को ध्यान में रखकर एक Line Draw की जाती हैं.

यह Support Line, Overall Price के हिसाब से Flat हो सकती है या फिर Slanted Up और down भी हो सकती हैं वही ज्यादा Advance Version के Support Level को Identify करने के लिए दुसरें Technical Indicators और Charting Techniques का इस्तेमाल भी किया जाता हैं.

Resistance क्या होता हैं? (Resistance Level in Hindi)

Resistance और Resistance level, एक ऐसा Price Point होता हैं जहाँ की Assets की Price Rise में रुकावट दिखती हैं और ऐसा इसलिए होता हैं क्योकि एकदम से एक साथ बहुत सारें Sellers अपने Assets को उसी Price में Sell करना चाहते हैं.

Support Level और Resistance Level में क्या अंतर होता हैं?

Support और Resistance किसी Stock में दो अलग-अलग Price Point होते हैं.

Support Level को अच्छे से समझने के लिए आपको दोनों Price Point को अच्छे से समझना होगा जो में आपको निचे बता रहा हूँ.

Support Level Calculation

सबसे पहले हम बात करेंगे Support price की, तो Support Price Chart में वो Price Price Point होता हैं जहाँ उस Price point से आगे Seller के मुकाबले Buyers की संख्या ज्यादा होने की सम्भावना होती हैं और इस वजह से Stock Price, Support Price Point से ऊपर की तरफ बढ़ने की सम्भावना होती है.

ठीक उसी तरह Resistance Price Chart में वो Price Price Point होता हैं जहाँ उस Price point से आगे Buyers के मुकाबले Seller की संख्या ज्यादा होने की सम्भावना होती हैं और इस वजह से Stock Price, Resistance Price Point से निचे की तरफ गिरने की सम्भावना होती है.

Share Market में Shares को खरीदना कब सही रहता हैं?

ऊपर के पूरे Article को पढ़ कर आपको यह तो समझ आ गया होगा की Share Market क्या हैं? और Share Market Work कैसे करता हैं. चलिए अब जानते हैं की How to invest in Share Market in Hindi? Share Market में Share खरीदने से पहले आपको इसमें Experience Gain करना जरुरी हैं ताकि Share Market में आप कब, कैसे और कौनसी Company में Invest करेंगे तो आपको बेहतर मुनाफा मिलें यह आप समझ पाएंगे.

Share Market में किस Company के Shares बढे या गिरे वह पता करने या देखने के लिए आप Economic Times Types के Newspapers या फिर NDTV Business जैसे News Channel देख सकते हैं जहाँ आपको What is Share Market in Hindi? की पूरी जानकारी मिल जाएगी.

Share Market एक बहुत ही Risk भरी जगह इसलिए जहाँ तक Possible हो सकें जब तक आपकी आर्थिक स्थिति ठीक न हो तब तक निवेश ना ही करें तो बेहतर है. अगर आपकी आर्थिक स्थिति ठीक है तो उस समय अगर Share Market में आपको घाटा होता भी है तो आपको उससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा.

शरुआत में थोड़े-थोड़े पैसे Share Market में लगाये जिससे आगे जाकर आपको ज्यादा नुकसान भी न हो और साथ ही आपको इस Field का Experiance और Knowledge भी मिलता जाएगा जिसके बाद धीरे धीरे आप अपने निवेश को बढ़ा सकते हैं.

कई बार कुछ कंपनियां ऐसी होती हैं जिनके Shares तो आप खरीद लेते हैं लेकिन वह Company Fraud होती है तो ऐसे में वह आपके पैसे लेकर भाग जाती हैं तो इस वजह से जब भी आप किसी भी Company के Shares ख़रीदते हैं तो सबसे पहले उसका Background जरुर Check कर लें ताकि आपको नुकसान नही हो.

Share Market-Related Tips in Hindi

हर किसी व्यक्ति को जल्दी अमीर बनने की ख्वाहीश रहती हैं और हर किसी का शौक भी रहता हैं जिस वजह से कुछ ऐसे शोर्टकट और Quick पैसे कमाने के तरीको की तलाश में रहते है जो उन्हें बहुत ही कम समय में अमीर बना दें और साथ ही साथ उनके जीवन में ढेर सारी खुशियां ला दें.

तो ऐसे में हर किसी को Share Market ही एक ऐसा Option लगता है जो उन्हें बहुत ही कम समय में करोड़ों रूपए बना सकते हैं. तो इसलिए आज में आपके साथ कुछ ऐसे ही अच्छे Tips Share कर रहा हूँ जिनके माध्यम से आप Share Market को अच्छी तरह से समझ सकें और अपने पैसे को डूबने से बचा तो सकते हैं और शायद अमिर भी बन सकते हैं तो चलिए जानते है कुछ अच्छे शेयर Market के टिप्स को.

1. सबसे पहले सीखे तभी आगे कदम बढ़ाएं

किसी भी चीज़ में हाथ आजमाने से पहले जरुरी है की उस चीज़ को आप सही तरह से समझ लें और पूरी तरह से जान लें और हो सकता हैं की इसके लिए आपको थोडा पढने और रिसर्च करने की आवश्यकता हो.

ठीक वैसे ही अगर आप Share Market में पैसे Invest करने की सोच रहे हो तो ऐसे में आपको सबसे पहले Share Market को अच्छी तरह से समझने की जरुरत होगी और Share Market से Related Research करने की जरुरत होगी. अगर बिना किसी ज्ञान के आप Share Market में पैसे Invest करते हो तो सकता हैं की आपको नुकसान हो.

2. खुद Research करें

जब भी हम बात करते हैं Research की तो ऐसे में बहुत से लोग दूर भागते है लेकिन अगर आप Share Market में पैसे Invest करने की सोच रहे है तो आपको Research से दूर नही भागना चाहिए बल्कि खुद आपको Research करनी चाहिए क्योंकि Share Market में Research ही एक ऐसी चीज़ हैं जो आपको सफल बना सकती हैं.

हो सकता हैं की आपको बहुत सारें TV Channels पर कई Share Market Expert मिल जायेंगे जो आपको Shares के Prices को Predict करते हुए मिल जायेंगे लेकिन अगर हर कोई ऐसे ही Shares के Prices को Predict कर पाता तो वह अपने घर बैठे बैठें ही पैसे कमा रहा होता.

3. Long-Term Goals को Set करें

एक बात समझ लें की अगर आप कोई Goal plan करते हैं तो ऐसे में हमेशा वो Goal Long-Term का सेट करें जैसे अगर आप Investment के लिए कोई Goal Plan कर रहे तो वह अगर Long-Term का Plan रखे क्यूंकि Investment हमेशा Long-Term में better Result देते हैं ठीक वैसे ही अगर आप share Market में पैसे Invest करना चाहते है तो ऐसे में Long-Term मानकर ही करें तभी आपको Profit होगा.

4. Risk-Tolerance को सही तरीके से समझे

Risk-Tolerance से मतलब की हर व्यक्ति की अपनी एक अलग ही Risk लेने की सीमा होती हैं उस Risk में उसका Profit हो या Loss हो उन्हें फर्क नही पड़ता हैं.

चूँकि आप Share Market में पैसा Invest करना चाहते हैं तो Share Market एक बहुत ही Risky Platform हैं जिस वजह से आप Share Market में आप उतना ही Invest करे जितना आप Risk उठा सकते हैं.

क्योंकि हो सकता है की आप अपनी रिस्क उठाने की क्षमता से ज्यादा Invest कर देते हैं और ऐसे में आपको Loss हो जाए तो आप कंगाल हो सकते है इसलिए कोशिश करें की अपने Risk-Tolerance की हिसाब से अपना Portfolio तैयार करें.

5. अपने हिसाब से Research और Planning करें

आप किसी भी Field में हो किसी भी Designation पर वर्क कर रहे हो लेकिन हर Field में हर Designation पर Better Work करने के लिए हमें खुद Research और Planning करनी पड़ती हैं जिससें आप आसानी से काम को दिए हुए समय में पूर्ण करके दे सकें.

ठीक वैसे ही Long-Term में आप Success होना चाहते हैं तो ऐसे में आपको सही ढंग से की गई Planning और Research ही सबसे ज्यादा काम आती हैं

तो जब भी आप किसी Shares का Selection कर रहे है तो सबसे पहले उसके बारे में जहाँ तक Possible हो Research करें ताकि बाद में आप Loss में ना जाएँ और पछताए न.

6. अपनें Emotion को Control करें

अगर आपको एक अच्छा Investor बनना हैं तो ऐसे में आपको खुद के Emotion को Control करना सीखना होगा.क्योंकि कई बार ऐसा होता हैं की हम Share Market में पैसा Invest करने के बाद खुद के Emotion को Control नही कर पातें हैं जिसके चलते काफी नुकसान हो जाता है तो हमेशा कोशिश करें की आप अपने Emotion को Control कर सकें.

7. हमेशा अपने Investment को Diversify करें

सही मायने में एक सफल Investors हमेशा अपने Investment को Diversify करता हैं तो ऐसे में अगर आप भी एक सफल Investors बनना चाहते हैं तो ऐसे में आपको अपने Investment को Diversify करना चाहिए.

कहने का मतलब की आप अपने Investment को हमेशा सिर्फ 1 ही Shares पर ना करें कोशिश करें की अपने Portfolio में अलग-अलग Category के Shares को add करें.

जिससें आप अपने Investment के Risk को भी Diversify करते हैं और साथ ही कम भी करते हैं.

तो यह तो थी कुछ खास Share Market Tips in Hindi – शेयर बाज़ार टिप्स जो की आपको Share Market में Share खरीदनें और काफी चीजों में मदद करेगी.

मैं उम्मीद करता हूँ की आपको मेरे द्वारा लिखा गया लेख Share Market क्या हैं? (What is Share Market in Hindi) समझ में आया होगा.

मैं आशा करता हूँ की आप लोगो को Share Market क्या हैं? (What is Share Market in Hindi) समझ आ गया होगा. साथ ही मैं आशा करता हूँ की Share Market से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी इस Article में मिल गयी होगी. मेरी आप सभी पाठकों से गुजारिश हैं की इस Information को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों तथा अपने मित्रो के साथ अवश्य शेयर करें, जिससें की हम सब के बिच जागरूकता आएगी जिससें सब को लाभ भी होगा.

यदि Share Market से Related किसी भी प्रकार का प्रश्न हैं या कोई Doubt है तो आप नीचें comment Section में Comment करके पूछ सकते हैं ताकि जल्दी से जल्दी हम आपके प्रश्न और Doubts को सुलझा सकें और आपकी मदद कर सकें.

आपको यह भी पढना चाहिए

लेखक: Rohit Bhatt

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »