हर दिन कुछ नया सिखने के लिए अभी Subscribe करें!

RAM क्या होती हैं – What is RAM in Hindi Full Detail

जब भी हम कोई नया Computer या Mobile खरीदते हैं तो हमेशा हम दुकानदार से पूछते हैं की इसमें RAM कितने GB की हैं. हम यह भी कहते हैं की अगर ज्यादा GB की RAM होगी तो Mobile या Computer Hang नही होगा काफी Speed से चलेगा.

कुछ लोग तो यह भी मानते हैं की अगर RAM Memory हमेशा खाली रहेगी तो Mobile थोडा Speed से चलेगा और कभी Hang नही होगा और धीरे भी नही चलेगा. तो क्या यह सच हैं? इसके बारें में आज हम विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे.

RAM क्या हैं

लेकिन कभी-कभार हमारें दिमाग में एक सवाल जरुर उठता हैं की RAM क्या होती हैं? यह किस काम आती हैं? तो चलिए जानते हैं की RAM क्या हैं? What is RAM in Hindi?

Memory क्या होती हैं? Memory कितने प्रकार की होती हैं?

कभी-कभी School में आपको आपके Teacher ने आपको कहा ही होगा की टी यादाश्त कमजोर हो गई हैं बादाम खाया करो तो उसी यादाश्त को Memory कहा जाता हैं. जैसे हमें कोई Important काम करना होता हैं तो हम उसें याद कर लेते हैं और जैसे ही वह काम पूरा होता हैं वैसे ही उस काम को भूल जाते हैं तो जो आपने काम किया तो उस काम को आपने एक जगह Store करके रखा जिसें दिमाग का नाम दिया.

अब ठीक उसी प्रकार Computer में भी बहुत सारी अलग-अलग Memory होती हैं जिसें हम Storage भी कहते हैं. Computer की Memory एक ही जगह स्थित होती हैं जहाँ पर हम Data और Instruction को Store करके रखते हैं जिसमें Memory में जब हम चाहे तब हम उस Data को निकाल सकें.

Computer की Memory को छोटे-छोटे हिस्सों में बाटा गया और सभी की Size एक समान रखी, ताकी Computer को पता लग सकें की कौनसा Data या Instruction किस हिस्सें में रखना हैं. Computer की in Memory के हिस्सों को Cell का नाम दिया गया.

हर Cell का एक अलग और Unique Address होता हैं जिसकों Memory Address बोला जाता हैं. (यहाँ Memory Address मतलब Cell का पता या Cell Address).

Computer इस Address के जरिये पता लगाता हैं की Data कहाँ छुपा हैं और data को ढूंडता है (यहाँ Data से तात्पर्य हैं किसी व्यक्ति का Mobile number, कोई Audio या Video फ़ाइल आदि) यह सारा data एक एक Cell में रहता हैं और एक Cell Address की शुरुआत 0 से होती हैं.

उदाहरण के लिए मान लेते हैं की एक 5KB की Memory हैं जिसमें एक Cell का Size 1 byte हैं तो उस समय Memory के 5X1024 = 5120 Cell होंगे और साथ ही उतने ही खांचे होंगे और 5120 Address भी बनेंगे.

वैसे तो Computer में मुख्यरूप से तीन प्रकार की Memory होती हैं और हर Memory का अलग-अलग काम हैं और उनकी अलग-अलग खासियत भी हैं Memory के नाम कुछ इस प्रकार हैं.

  1. Primary Memory or Main Memory
  2. Secondary Memory
  3. Cache Memory

इस लेख में हम RAM Memory के बारें में जानने का प्रयास कर रहे हैं इसी कारणवश हम अभी सिर्फ Primary Memory की बारें में ही जानेंगे.

Primary Memory क्या हैं और किसे कहते हैं?

इस Memory को Main Memory भी कहा जाता हैं. यह Memory सिर्फ् उसी Data और Instruction को रखता हैं जिस Data और Instruction को Computer वर्तमान में इस्तेमाल कर रहा हैं. इस Memory का Space सिमित होता हैं जिस वजह से यह Memory सिर्फ तब तक Data सेव करके रखती हैं जब तक की इसको Electricity मिलती हैं जैसें ही Power बंद हो गया इस Memory के अन्दर Save Data भी गायब (Delete) हो जाता हैं.

Read More: – Driving Licence क्या हैं? Online Driving Licence कैसे Apply करें?
Read More: – Payment Bank क्या हैं और Free में Account कैसे बनाए?

Primary Memory को Semiconductor से बनाया जाता हैं. इसलिए इस Memory की Speed Register की तुलना में बहुत कम होती हैं. Computer के अन्दर किसी भी प्रकार का Data या Instruction दिया जाता हैं वह Primary Memory में ही Processed होता हैं.

Primary Memory के भी 2 अलग-अलग भाग जिनका काम भी अलग-अलग होता हैं उन दोनों Memory के नाम कुछ इस प्रकार हैं.

  • RAM (Random Access Memory)
  • ROM (Read Only Memory)

अब जिस प्रकार आप जानते हैं की इस लेख में सिर्फ RAM की बात हो रही हैं तो यहाँ पर आगे भी हम सिर्फ RAM Memory के बारें में जानेंगे.

RAM क्या हैं? Computer RAM किसे कहते हैं?

RAM का पूरा नाम (Full Name) Random Access Memory होता हैं. इसे प्राथमिक Memory या Main Memory भी कहते हैं.

RAM का कार्य CPU द्वारा वर्तमान में किये जा रहे कार्यों के Data और Instruction को Store करना होता हैं, यह Memory CPU का एक भाग होती हैं इसलिए इस Memory का Data Direct Access किया जा सकता हैं.

RAM Kya Hai

RAM में Data और Instruction Cells में Store रहता हैं जिसमें हर Cell कुछ Raws और Columns से मिलकर बना होता हैं, जिसका अपना ही एक Unique Address होता हैं. जिसे Cell Path भी कहते हैं.

CPU इन सभी Cells से डाटा अलग-अलग प्राप्त कर सकता हैं और वो भी बिना किसी Sequence के आसानी से RAM में Available डाटा को Randomly Access किया जा सकता हैं.शायद इसी खास विशेषज्ञता के कारण इसें Random Access Memory कहा जाता हैं.

RAM को Volatile Memory होती हैं, इसलिए RAM के अन्दर Store Data के लिए Store नही होता हैं, जब तक RAM Memory के अन्दर Power Supply चालू रहती हैं तथा Computer Shut Down होने पर इसका सारा Data स्वतः डिलीट हो जाता हैं.

अब तक तो आपको समझ आ गया होगा की RAM Memory क्या होती हैं अगर नही आया हैं तो कोई बात नही चलिए इसें हम एक उदाहरण के जरिये समझने का प्रयास करते हैं.

जब आपको Cricket खेलना होता हैं तो आप एक बंद कमरें में जाकर तो नही खेलते हैं उसके लिए आप बड़ी जगह ढूढ़ते हैं जैसे की Playground या कोई गली जिसमें आप आराम से Cricket खेल सकें ठीक वैसे ही जब भी आप Mobile में दिनभर कुछ भी काम करते हैं तो वह सारा काम एक Memory में सेव होता हैं जिसें RAM कहते हैं इसलिए हर कोई यही कहता हैं की Mobile में RAM अच्छी हो तो Mobile भी Fast चलता हैं.

अब जब भी आप Mobile में कोई Movie देखते हो या Game खेलते हो तो ऐसे में यह सारा Data Memory में रहता हैं तो CPU Movie या Game को Memory Card में से ढूंढ के RAM में उसको Play करता हैं, जिस वजह से Mobile में आप जितना ज्यादा Application का एक साथ उपयोग करते हैं उतना RAM पर Load बढ़ता जाता हैं जिससें Mobile Slow होता हैं और फिर Hang होता हैं तो कोशिश करें की जितना हो सकें आपका Mobile Free रखिये.

RAM की खास विशेषताए क्या-क्या हैं? What are the Special Characteristics of RAM in Hindi?

दूसरी Memory की तरह RAM Memory की भी कुछ खास विशेषताएँ होती हैं, RAM क्या हैं? वह तो आप समझ गये तो चलिए जानते हैं की RAM की विशेषताएँ क्या-क्या हैं?

  1. दूसरें Memory की तुलना में RAM Memory बहुत ज्यादा महँगी होती हैं.
  2. Secondary Memory की तुलना में RAM Memory की Capacity बहुत कम होती हैं.
  3. RAM Memory को CPU इस्तेमाल करता हैं.
  4. RAM Memory को Randomly Access कर सकते हैं.
  5. Secondary Memory से RAM Memory बहुत ज्यादा Fast काम करती हैं.
  6. बिजली बंद हो जाने पर RAM Memory में Store हुआ सारा डाटा खाली हो जाता हैं.
  7. सभी प्रकार के Program, Application, Instruction इसी Memory के द्वारा चलते हैं.
  8. RAM को Volatile Memory भी कहा जाता हैं.

तो यह थी कुछ खास विशेषताएँ जिसें आपको पूरी तरह जानना और समझना जरुरी था.

अब RAM Memory को पूरी तरह समझने के लिए आपको RAM कितने प्रकार का है और इनके काम क्या-क्या होते हैं यह जानना जरुरी हैं.

RAM Memory दो प्रकार की होती हैं जिनके नाम कुछ इस प्रकार हैं.

  1. Static RAM
  2. Dynamic RAM

Static RAM किसे कहते हैं और क्या होती हैं?

Static RAM को SRAM कहते हैं. Static Word से ही साफ़ पता चलता हैं की यह एक तरह से स्थिर Memory हैं. यह Memory Chip 6 Transistor का इस्तेमाल करता हैं इसमें एक भी Capacitor नही होता हैं. इस Memory में data तब तक रहता हैं जब तक की Memory को Electricity मिलती हैं.

SRAM Memory को बार-बार Refresh करने की जरुरत नही होती हैं क्योंकि इसमें data स्थिर रहता हैं, समान Size के Data को Store करने के लिए भी SRAM को DRAM से भी ज्यादा Chips की जरुरत पड़ती हैं. इसी वजह से SRAM को बनाने में DRAM से ज्यादा पैसे खर्च करने होते हैं.

SRAM की खास विशेषताए क्या-क्या हैं? (What are the Special Characteristics of SRAM in Hindi?)

  • यह Memory लम्बे समय तक ख़राब नही होती हैं.
  • SRAM को बार-बार Refresh करने की जरुरत नही पड़ती हैं.
  • इसको Cache Memory के लिए भी इस्तेमाल किया जाता हैं.
  • इसकी Size बहुत ज्यादा होती हैं और साथ ही यह काफी Fast होती हैं.
  • यह दूसरी Memory से ज्यादा महँगी होती हैं और इसको दूसरी memory से थोड़ी ज्यादा Power की जरुरत पड़ती हैं.

Dynamic RAM किसे कहते हैं और क्या होती हैं?

Dynamic RAM को DRAM Memory भी बोला जाता हैं. यह SRAM के बिल्कुल विपरीत कार्य करता हैं. इस Memory को बार-बार Refresh करने की जरुरत पड़ती हैं, अगर Data को बरकरार रखना हाँ तो यह तभी संभव हो पाएगा जब इस Memory को Refresh करने के लिए एक Refresh Circuit के साथ जोड़ा जाएँ.

अधिकांश समय में DRAM को System Memory बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता हैं, DRAM को Capacitor और Transistor से बनाया जाता हैं.

DRAM की खास विशेषताए क्या-क्या हैं? (What are the Special Characteristics of DRAM in Hindi?)

  • DRAM Memory बहुत ही कम दिनों तक चलती हैं.
  • इस Memory को बार-बार Refresh करने की जरुरत पड़ती हैं.
  • DRAM Memory को ज्यादातर Cache Memory के लिए इस्तेमाल किया जाता हैं.
  • DRAM की Size भी काफी कम होता हैं.
  • इस Memory की Speed भी काफी धीरे होती हैं.
  • इस Memory को काफी कम Power चाहिए होती हैं.
  • यह Memory दूसरी Memory की तुलना में काफी सस्ती होती हैं.

RAM Memory के ज्यादा होने से क्या-क्या फायदें हो सकते हैं?

मान लीजिए की आपका Computer एक तरह से Restaurant हैं जिसमें CPU Core एक वेटर हैं, Dual Core CPU में 2 वेटर हैं, Quad Core CPU में 4 वेटर हैं मतलब की जितने ज्यादा CPU Core होंगे उतने ही ज्यादा वेटर और उतने ही ज्यादा बढ़िया Restaurant के लिए.

अब इसें पुरें उदाहरण में RAM को आप मान लीजिए एक स्थान (स्थान जिसमें लोगों के बैठने के लिए जगह, Office Counter और खाना बनाने की जगह आदि.) हैं तो मतलब की जितनी ज्यादा RAM होगी उतना ही ज्यादा बड़ी जगह होगी. जिससें उतने ही ज्यादा लोग बैठ पायेंगे और वेटर आसानी से काम कर पायेंगे.

अब Hard Drive को आप एक Storage Drive समझ लो जहाँ खाने के बर्तन और कुछ खाना पड़ा हुआ हैं जब तक की वेटर को लोगो को नही देना हैं.

अब एक बड़ी जगह (ज्यादा RAM) होने से वहां ज्यादा लोग बैठ पा रहे है कोई Waiting लाइन नही लग रही हैं और उसी वजह से ज्यादा लोग आ रहे हैं और आसानी से Income भी ज्यादा generate हो रही हैं.

तो इस उदाहरण से आप समझ गए होंगे की कैसे RAM के ज्यादा होने से कार्य करने की क्षमता और Speed दोनों में तेजी आ जायेगी, और इससें आपको ज्यादा Advantage होंगे.

अब तक तो आप समझ ही गए होंगे की जितनी ज्यादा RAM होंगी उतने ही ज्यादा Advantages होंगे और साथ ही आपका Computer और Mobile भी उतना Fast Performance भी देगा.

Mobile Phone की RAM और Computer RAM में क्या अंतर होता हैं?

ज्यादातर Mobile Processor में LPDDR का इस्तेमाल किया जाता हैं और वही ज्यादातर Computer में SDDR का इस्तेमाल किया जाता हैं.

जहाँ LPDDR की FULL form कुछ इस प्रकार हैं.

LPDDR का Full-Form होता हैं Low-Power Data Rate Synchronous RAM.

वही SDDR की Full-Form होती हैं Standard Double Data Rate Synchronous RAM.

इन दोनों RAM में सिर्फ् Power ही Difference होता हैं. Mobile RAM को थोडा ज्यादा Power Save करने के लिए Design किया जाता हैं वही Computer की RAM को Computer की Performance को बढ़ाने के लिए Design किया जाता हैं.

जब Mobile Processors को Design किया जाता हैं तो उसमें ARM Architecture का इस्तेमाल किया जाता हैं. वही especially PC RAM को Intels x86 Architecture को ध्यान में रख कर उसके हिसाब से बनाया जाता हैं.

Mobile Processors को PC RAM की तुलना में मुख्य रूप से Performance और Power के बीच में एक Balance बनाए रखने के लिए बनाया जाता हैं.

Conclusion

उम्मीद करता हु की आपको मेरी यह पोस्ट “RAM क्या होती हैं पूरी जानकारी हिंदी में – What is RAM in Hindi Full Detail?” पसंद आया होगा। अगर आपको इस Post से सम्बंधित किसी प्रकार का कोई भी प्रश्न पूछना है तो आप Comment के जरिये पूछ सकते हो। इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर भी जरूर Share करे!

आपको यह भी पढना चाहिए

लेखक: Rohit Bhatt

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »