नन्ही गिलहरी ने गौतम बुद्ध को कैसे दी ज्ञान की शिक्षा

नन्ही गिलहरी ने गौतम बुद्ध को कैसे दी ज्ञान की शिक्षा

भगवान बुद्ध ज्ञान की प्राप्ति के लिए तप में लगे थे। तब उन्होंने शरीर को काफी कष्ट दिया और यातनाएं कीं और घने जंगलों में कड़ी साधना की। परंतु उन्हें आत्मज्ञान की प्राप्ति नहीं हुई तो एक दिन निराश होकर बुद्ध सोचने लगे कि अभी तक मैंने कुछ भी प्राप्त नहीं किया तो आगे मैं क्या कर पाऊंगा। निराशा और विश्वास के नकरात्मक भावों ने उन्हें अपने मार्ग से विचलित कर दिया।

नन्ही गिलहरी ने गौतम बुद्ध को कैसे दी ज्ञान की शिक्षा
नन्ही गिलहरी ने गौतम बुद्ध को कैसे दी ज्ञान की शिक्षा, गौतम बुद्ध को शिक्षा कैसे मिला।

कुछ देर बाद उन्हें प्यास लगी और वह एक झील के पास पहुंचे तो उन्होंने एक दृश्य देखा कि एक नन्ही सी गिलहरी के दो बच्चे झील में डूब गए हैं। पहले तो वह गिलहरी जड़वत बैठी रही फिर कुछ देर बाद झील के पास गई अपना सारा सिर झील में भिगोया और फिर बाहर आकर पानी झाड़ने लगी । ऐसा वह बार-बार करने लगी ।

नन्ही गिलहरी ने गौतम बुद्ध को कैसे दी ज्ञान की शिक्षा

बुद्ध सोचने लगे कि इस गिलहरी का प्रयास कितना मूर्खतापूर्ण है कि क्या कभी यह इस झील को सुखा सकेगी । किंतु गिलहरी ने यह काम लगातार जारी रखा । बुद्ध को लगा मानो गिलहरी कह रही हो की झील कभी खाली होगी या नहीं यह मैं नहीं जानती किंतु मैं अपना प्रयास कभी नहीं छोडूंगी।

अंततः वह छोटी सी गिलहरी ने भगवान बुद्ध को अपने लक्ष्य मार्ग से विचलित होने से बचा लिया। वह यह सोचने लगे जब यह नन्ही सी गिलहरी लघु समर्थ से झील को सुखाने के लिए दृढ़ संकल्पित है तो मुझमें क्या कमी है इससे हजार गुना अधिक क्षमता रखता हूं यह सोचकर गौतम बुद्ध पुनः अपनी साधना में लग गए और एक दिन उन्हें ज्ञान का आलोक प्रदान हुआ।

हमारें newsletter को Subscribe करें

About the Author: Rohit bhatt

My Name Is Rohit Bhatt. I am a Blogger, Youtuber And Entrepreneur. I am From Dungarpur (Raj.). I Am writes My Special Entrepreneur Tips, Relationship Tips, Health Tips, Tips And Tricks On Wikiment.

You May Also Like

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.